कोरोना : RBI ने भी दी राहत, EMI भुगतान में तीन महीने की छूट

नई दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने कोरोना वायरस के कारण शेयर बाजार और अर्थव्यवस्था को मायूसी से उबारने के लिए कई बड़े एलान किए हैं। पहला, उसने लोन की ईएमआई देने से तीन महीने की छूट दी है। दूसरा, उसने टर्म लोन पर इतने ही समय के लिए राहत देने का एलान किया है।
रिजर्व बैंक ने रेटिंग एजेंसी मूडीज के भारत की ग्रोथ के अनुमान घटाने के फैसले के तुरंत बाद इन उपायों का ऐलान किया। रेटिंग एजेंसी ने भारत की ग्रोथ के अनुमान साल 2020 के लिए 5.3 फीसदी से घटाकर 2.5 फीसदी कर दिया हैं।
कोरोना जैसी खतरनाक महामारी को देखते हुए इस बारे में बीते गुरुवार को वित्त मंत्री ने आरबीआई को खत लिखकर कहा था कि वह ग्राहकों को राहत देने के लिए आपातकालीन उपाय करें। सूत्रों का कहना है कि वित्तीय सेवा विभाग के सचिव देबाशीष पांडा ने आरबीआई को पत्र लिखकर सुझाव दिया है कि ईएमआई के भुगतान, ब्याज और ऋण अदायगी पर कुछ महीनों की मोहलत दी जाये। इसके अलावा यह भी कहा गया है कि नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स (एनपीए) को लेकर नियम कुछ आसान किये जाएं।
पत्र में राहत उपायों की जरूरत पर प्रकाश डाला गया है क्योंकि कोरोना वायरस के प्रकोप से लोगों को बिजनेस करने में नुकसान उठाना पड़ रहा है और नौकरीपेशा वर्ग को भी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना का प्रसार रोकने के लिए 25 मार्च से 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की है।
कारोबार ठीक न हो पाने और लॉकडाउन के चलते आ रही परेशानी के चलते कर्ज नहीं चुकाने का जोखिम बढ़ा है। इससे क्रेडिट प्रोफाइल को भी नुकसान पहुंचने की आशंका बढ़ी है। बताते चले कि गुरुवार को ही मोदी सरकार ने कोरोना के कहर से अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए 1.70 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज का ऐलान किया था। अब इस मुहिम में केंद्रीय बैंक भी शामिल हो गया है।