Coronavirus: कोरोना की दहशत के बीच स्वाइन फ्लू ने बढ़ाई चिंता

देहरादून : कोरोना की दहशत के बीच सूबे में स्वाइन फ्लू ने भी चिंता बढ़ा दी है। श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में एक महिला में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई। राहत वाली बात ये है कि महिला की हालत स्थिर है और वह स्वस्थ्य है। जनवरी प्रथम सप्ताह से लेकर अब तक स्वाइन फ्लू के नौ मामलों की पुष्टि हुई थी, जबकि फरवरी में जौलीग्रांट स्थित हिमालयन अस्पताल में उपचार के दौरान स्वाइन फ्लू से पीड़ित एक व्यक्ति की मौत हो गई थी। हालांकि, इस मामले में डेथ ऑडिट नहीं हो सका था। 

माना गया कि उक्त व्यक्ति की मौत किसी और कारण से हुई। हालांकि वह स्वाइन फ्लू पॉजीटिव भी था। अब श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल में भर्ती एक महिला को स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. अमिता उप्रेती ने कहा कि उन्होंने इस बारे में श्री महंत इन्दिरेश के चिकित्साधीक्षक से बात कर उक्त महिला की स्थिति के बारे में जानकारी ली है। महिला की हालत ठीक है और वह स्वस्थ्य है। बताया कि जनवरी से अब तक कुल 101 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए, जिनमें नौ मरीजों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। 

स्वास्थ्य महानिदेशक ने कहा कि बुधवार को एक निजी चैनल पर राजधानी में एक और कोरोना पॉजीटिव की खबर चलाई गई, जो पूरी तरह बेबुनियाद है। उन्होंने अपील की है कि बगैर पुष्टि के इस तरह की खबरों का प्रचार न किया जाए। कोरोना वायरस का डर तो है साहब लेकिन हमें तो अपनी जिम्मेदारी निभानी है। यह कहना है दून रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों को सेनिटाइज कर रहे सफाई कर्मी सुमित का। सुमित इन दिनों कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए ट्रेनों को सेनिटाइज करने का काम कर रहे हैं। 

प्रतिदिन हजारों यात्री रेल से सफर करते हैं इसलिए ट्रेनों को भी सेनिटाइज किया जा रहा है। देहरादून रेलवे स्टेशन में यह जिम्मेदारी सुमित निभा रहे हैं। सुमित का कहना है कि प्रतिदिन हजारों यात्री ट्रेन से सफर करते हैं, ऐसे में ट्रेनों को सेनिटाइज करना जरूरी है। उनका कहना है कि उन्हें कोरोना का डर उन्हें भी है, लेकिन जो जिम्मेदारी उन्हें दी है वे उसे पूरी ईमानदारी से निभा रहे हैं। जिससे दूसरे लोग इस वायरस से सुरक्षित रहे। 27 वर्षीय सुमित मूल रूप से सहारनपुर के रहने वाले हैं और बीपीएसएसआर फैसिलिटी टेलिकॉन इंडिया कंपनी के तहत रेलवे में सफाई कर्मचारी है।