यूपी में बढ़ती छेड़खानी की घटनाओं पर सख्त हुए सीएम योगी, शोहदों के पोस्टर भी लगेंगे सार्वजनिक स्थानों पर

लखनऊ: प्रदेश में महिलाओं के प्रति तेजी से बढ़ते अपराध को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा फैसला लिया है। जिसके तहत अगर कोई छात्राओं व महिलाओं से छेड़खानी करते पकड़ा जाता है तो उसका पोस्टर शहर के सार्वजनिक स्थानों पर लगेंगा। इतना ही नहीं, मिशन दुराचारी के तहत महिला पुलिसकर्मियों को यह जिम्मा दिया जाएगा।बता दें, योगी सरकार ने इसी तरह का कदम नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हुई हिंसा के दौरान भी उठाया था। तो वहीं, अब मनचलों, शोहदों और आदतन दुराचारियों के पोस्टर पूरे शहर में लगेंगे। दरअसल, इसके पीछे की मंशा ऐसे अपराधियों को समाज के सामने लाकर उन्हें शर्मिंदा करने की है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मिशन दुराचारी के तहत होने वाले इस एक्शन का जिम्मा महिला पुलिस कर्मियों को दिया गया है।महिला पुलिसकर्मी चौक चौराहों पर ऐसे शोहदों और मनचलों की पहचान कर उनके पोस्टर को सार्वजनकि स्थलों पर चस्पा करेंगी। इतना ही नहीं, सीएम योगी आदेश देते हुए कहा कि महिलाओं से किसी भी तरह का अपराध करने वाले दुराचारियों को महिला पुलिसकर्मियों से ही दंडित कराया जाएंगा। महिला पुलिसकर्मियों से ही इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई कराई जाएगी। ऐसे अपराधियों और दुराचारियों के मददगारों के भी नाम उजागर किए जाएंगे।

जिस तरह एंटी रोमियो स्क्वायड ने मनचलों और महिलाओं के साथ अपराध करने वालों की कमर तोड़ी, वैसे ही हर जनपद की पुलिस अभियान चलाती रहे। कहीं भी महिलाओं के साथ कोई आपराधिक घटना हुई तो संबंधित बीट इंचार्ज, चौकी इंचार्ज, थाना प्रभारी और सीओ जिम्मेदार होंगे।उधर राजधानी लखनऊ में महिला अपराधों के खिलाफ 'ऑपरेशन शक्ति' चलाया गय। आईजी लखनऊ रेंज लक्ष्मी सिंह के निर्देश पर उन्नाव, हरदोई, सीतापुर, लखीमपुर, रायबरेली, लखनऊ ग्रामीण में यह अभियान चलाया गया। इसके तहत कानूनी और सामाजिक दबाव के साथ ही सतर्कता और जागरूकता फैलाने का काम किया गया। अब तक एक महीने में 2200 आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई हुई। तो वहीं, 822 पर एफआईआर, 699 को पाबंद और 770 को नोटिस दिया गया। दरअसल, लगातार आ रही छेड़छाड़ की ख़बरों के बाद यह कार्रवाई की गई, इसके तहत 600 परिवारों को भी पाबंद किया गया।