निरीक्षण के दौरान नाले में फंस गई डीएम की नाव, अधिकारियों के साथ पानी में उतरना पड़ा

बलिया: यूपी के बलिया जिले में जलजमाव के चलते नाले में हुए सफाई कार्य और बहाव का जायजा अधिकारियों के साथ निकले जिलाधिकारी की नाव फंस गई। फिर क्या था, स्वयं डीएम नाले में नाव से उतर गए। डीएम को उतरा देख सीडीओ और एसडीएम भी नाले में उतर गए। डीएम के साथ ही अधिकारियों ने नाव को अपने कंधे पर उठाया और 100 मीटर आगे पानी में डालकर आगे बढ़े। दरअसल, जलकुंभी के चलते नाव एक जगह फंस गई थी।जानकारी के मुताबिक, बलिया जिले को जलजमाव से मुक्ति दिलाने के लिए कटहल नाले में हुए सफाई कार्य व बहाव का जायजा लेने गुरुवार की सुबह डीएम हरि प्रताप शाही कटहल नाला पहुंचे। यह नाला सुरहा ताल को गंगा नदी से जोड़ता है।

इस दौरान डीएम के साथ सीडीओ विपिन जैन, सदर एसडीएम गुरुवार को नाव पर सवार होकर बलिया के कटहल नाला के सफाई का निरीक्षण करने निकले। जलकुंभी के चलते नाव फंस गई तो सभी अधिकारी खुद ही फंसी नाव को खींचने में लग गए। डीएम हौसला बढ़ाते हुए नाव खींच रहे थे और बोलते भी रहे दम लगा के। एनडीआरएफ के जवानों ने बाद में नाव को ठीक किया। उसके बाद आगे का निरीक्षण हुआ। डीएम के अनुसार आने वाले समय में टूरिज़्म से भी जोड़कर देखा जा रहा है। सुरहा ताल को गंगा नदी से जोड़ने वाला एक जल मार्ग है। ईको टूरिज्म टाइप किया जा सकता है।

आगे हम प्रयास करेंगे कहां तक सफलता मिल सकती है, जिसका सुंदरीकरण हो।बलिया में देवकली गांव के पास जहां पर नाव फंसी थी, वहां मेहनत करने के बाद पास के ही एक घर की छत पर जिलाधिकारी एसपी शाही अपनी टीम के साथ पहुंच गए। आला अधिकारी को अपने घर देख उस घर के स्वामी और महिलाएं काफी खुश नजर आई। इस दौरान जिलाधिकारी ने स्वयं चाय और पानी पिलाने का अनुरोध किया तो घर के लोग और भी अधिक खुश हो गए। थोड़ी देर में वहां प्रधान और आसपास के वरिष्ठ लोग भी जुट गए। फिर चाय पर चर्चा के दौरान डीएम ने गांव के विकास कार्यों सहित योजनाओं के क्रियान्वयन से संबंधित बातचीत की।