चीन ने वार्ता में रखी ये मांग: भारत ने दिया दो टूक जवाब, नहीं होगी एक तरफा कार्रवाई

नई दिल्ली: पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन के बीच तनाव कम होने का नाम ही नहीं ले रहा है। सीमा पर मई महीने से जारी तनाव कम होने के बजाय और बढ़ता ही जा रहा है। दोनों पक्ष इस तनातनी को कम करने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि चीन अपनी मांगों को लेकर अड़ा हुआ है। उसका कहना है कि भारतीय सेना की तरफ से पैंगोंग झील के दक्षिणी इलाके से सेना हटाई जाए। एक वार्ता के दौरान उसने यह शर्त रखी, लेकिन भारत ने भी स्पष्ट कर दिया है कि कोई भी एकतरफा कार्रवाई नहीं होगी, सेनाएं दोनों तरफ से हटाई जानी चाहिए। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारत द्वारा चीनी कार्रवाई का जवाब देने के लिए सात जगहों पर LAC पार कर लिया गया है। रिपोर्ट में सूत्र के हवाले से दावा किया गया है कि हमने सात जगह पर LAC पार किया है।

क्या आपको अभी भी लगता है कि चीन बातचीत करना चाहता है? रिपोर्ट के मुताबिक, हाल ही में हुए एक वार्ता में चीन ने कहा कि भारतीय सेना द्वारा पहले पैंगोंग झील के दक्षिणी इलाके से सेना हटाए जाए, जिस पर भारत ने स्पष्ट मांग की है कि झील के दोनों देशों के सैनिक दोनों किनारों से हटेंगे। बता दें कि चीनी सैनिकों की हरकतों का मुंहतोड़ जवाब देते हुए भारतीय सेना ने चुशूल के सब सेक्टर में अपनी पैट्रोलिंग वाली जगहों से आगे चली गई है, अब उस इलाके में भारतीय जवानों का दबदबा है। इस जगह से स्पांगुर गैप पर भी नजर रखी जा सकती है, साथ ही मोल्दो में चीन की टुकड़ी की मूवमेंट भी आसानी से देखी जा सकती है। बता दें कि अब तक भारत और चीन के बीच तनाव को कम करने के लिए सैन्य और राजनयिक की सात दौर की वार्ता हो चुकी है।

जहां चीन अपनी मांगों पर अड़ा है तो वहीं भारत भी अपनी बात पर डटा हुआ है। चीन चाहता है कि भारत द्वारा नए कब्जाए गए जमीन से सैनिक को वापस हटा लिया जाए। वहीं भारत का कहना है कि कोई भी एकतरफा कार्रवाई नहीं होगी। भारत ने यह भी कहा है कि हम किसी भी चुनौती का सामना करने को तैयार हैं।