सपा का हल्ला बोल: चौतरफा घिरी योगी सरकार, जिलों में जन प्रदर्शन का ऐलान

लखनऊ: समाजवादी पार्टी ने प्रदेश की बिगड़ी कानून -व्यवस्था को मुद्दा बनाकर योगी सरकार के खिलाफ हल्ला बोल का ऐलान कर दिया है। सोमवार को सभी जिला मुख्यालयों पर पार्टी कार्यकर्ता एकजुट होकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। सपा की ओर से राज्यपाल को ज्ञापन भेजकर प्रदेश की योगी सरकार के खिलाफ कार्रवाई के लिए भी कहा जाएगा। उत्तर प्रदेश विधानसभा उपचुनाव के बीच में ही समाजवादी पार्टी ने योगी सरकार के खिलाफ जन प्रदर्शन का ऐलान कर दिया है। समाजवादी पार्टी की ओर से जारी बयान में बताया गया है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर प्रदेश के सभी जिलों में 19 अक्टूबर को प्रदर्शन किया जाएगा। प्रदेश में ध्वस्त कानून व्यवस्था के सम्बंध में राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से भेजा जाएगा। इसके जरिये प्रदेश की राज्यपाल को बताया जाएगा कि उत्तर प्रदेश में बेखौफ अपराधियों के कारनामे बढ़ते जा रहे हैं।

महिलाओं और बच्चियों के साथ दुष्कर्म की बढ़ती घटनाएं चिंताजनक है। हत्या, लूट, और अपहरण का बाजार गर्म है। सत्ता संरक्षित अपराधियों को किसी का भय नहीं है। पुलिस तंत्र भी उनके समक्ष असहाय दिखाई देता है। उनसे अपेक्षा की जाएगी कि वह अपने संवैधानिक दायित्वों का निर्वाह करेंगी। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया कि यह कार्यक्रम प्रदेश के उन जिलों में नहीं होगा जहां विधानसभा के उपचुनाव होने की वजह से आचार संहिता लागू है। सपा नेताओं ने बताया कि प्रदेश में जिस तरह कानून-व्यवस्था की चुनौती बनी हुई है ऐसे में पार्टी की ओर से बड़े आंदोलन की शुरुआत की जा सकती है। प्रदेश की जनता भी अब मान रही है कि उत्तर प्रदेश की सरकार को चलाना मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के वश की बात नहीं है। उनका शासन-प्रशासन पर नियंत्रण खत्म हो चुका है।

सपा ने बताया कि बाराबंकी और बलिया में हुई जघन्य आपराधिक घटनाओं में एक बार फिर पुलिस व सरकार की नाकामी उजागर हुई है। सरकार में बैठे अधिकारी लोगों की समस्या का समाधान करने के बजाय मामले की लीपापोती में लगे हैं। बाराबंकी व बलिया की हकीकत जानने के लिए सपा ने अपना प्रतिनिधिमंडल भेजा है जो हकीकत से वाकिफ होने के बाद पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व को अपनी रिपोर्ट देगा।