सुषमा स्वराज के निधन के बाद सामने आई चौंका देने वाली बाते

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज का दिल का दौरा पड़ने से मंगलवार देर रात निधन हो गया है। सुषमा की शादी साल 1975 में सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील स्वराज कौशल से हुई थी। अब देश की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज हमारे बीच नहीं रहीं। ऐसे में आज हम 7 पॉइंट्स में सुषमा स्वराज की शख्सियत से रूबरू करवाएंगे। सुषमा स्वराज 25 साल की उम्र में साल 1949 में देश की पहली केंद्रीय मंत्रीमण्डल की सदस्य बनी थीं। साल 1949 में 24 साल की उम्र में सुषमा भारतीय जनता पार्टी, हरियाणा की राज्य अध्यक्षा बनीं। स्वराज भारत की किसी राष्ट्रीय राजनीतिक पार्टी की प्रथम महिला प्रवक्ता बनीं।स्वराज बीजेपी की पहली महिला मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री, महासचिव, प्रवक्ता, विपक्ष की नेता और विदेश मंत्री बनीं।

सुषमा स्वराज भारतीय संसद की पहली और एकमात्र ऐसी महिला सदस्या हैं, जिन्हें आउटस्टैंडिंग पार्लिमैण्टेरियन सम्मान मिला है। स्वराज ने चार राज्यों से 11 बार सीधे चुनाव लड़े। स्वराज हरियाणा में हिन्दी साहित्य सम्मेलन की चार वर्ष तक अध्यक्षा भी रहीं।