ढाबे पर खाना खाते समय कांस्टेबल की गोली मारकर हत्या

गदरपुर :  जमीन के विवाद में पीलीभीत में तैनात कांस्टेबल की गदरपुर में मंगलवार रात गोली मार हत्या कर दी गई। वह अपने साथियों के साथ ढाबे पर खाना खा रहा था। गोली चलने पर उसके साथियों ने भाग कर जान बचाई। ढाबा संचालक व वेटर भी भाग गए। एसएसपी ने मौके पर पहुंचकर जानकारी ली और क्षेत्र की नाकेबंदी कर आरोपितों की तलाश शुरू कराई। हमलावर हत्थे नहीं चढ़े हैं। उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले के बिलासपुर थाने के चंदेल गांव निवासी मयंक कटारिया (23) पीलीभीत में कांस्टेबल था। वह मंगलवार रात करीब आठ बजे अपने दोस्तों संदीप ङ्क्षसह उर्फ बंटी, हरदीप ङ्क्षसह, रविंद्र ङ्क्षसह के साथ महतोष मोड़ पर खालसा ढाबे पर खाना खा रहा था।

इस दौरान वहां बाइक सवार दो-तीन युवक पहुंचे और उन्होंने मयंक के सिर पर तमंचा सटाकर गोली चला दी। अचानक चली गोली से ढाबे में भगदड़ मच गई। इसके बाद उन्होंने मयंक के दोस्तों पर भी तमंचा तान दिया, लेकिन उन्होंने भागकर किसी तरह से अपनी जान बचाई। इस बीच हमलावर तमंचा लहराते हुए फरार हो गए। उत्तर प्रदेश पुलिस के कांस्टेबल को गोली मारने की घटना की सूचना मिलने पर पुलिस में हड़कंप मच गया।

आनन फानन गदरपुर, रुद्रपुर के साथ ही आसपास के थानों की फोर्स खालसा ढाबे पर पहुंच गई। मयंक को पुलिस ने जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित किया। हत्या की सूचना पर एसएसपी बरिंदरजीत सिंह मौके पर पहुंच गए। इस मामले में पुलिस ने कुछ संदिग्धों को भी उठाया है। उनसे पूछताछ की जा रही है। पुलिस के अनुसार मयंक का जमीन का विवाद चल रहा था। उसी में उसे गोली मारी गई है।