अयोध्या विवाद: मुस्लिम पक्ष वकील ने किया ये बड़ा खुलासा, कही ये बात...

नई दिल्‍ली: अयोध्या भूमि विवाद मामले की सुप्रीम कोर्ट में सुनावाई का आज 22वां दिन है। सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय संविधान बेंच अयोध्या मामले को सुन रही है। 22वें दिन की सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्ष की तरफ से वरिष्ठ वकील राजीव धवन अपनी दलीलें रख रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने कहा है कि उन्हें फेसबुक पर धमकी मिली है, लेकिन उन्हें फिलहाल सुरक्षा की कोई आवश्यकता नहीं है। उनके क्लर्क से भी कहा गया है कि माहौल बहस का नहीं है। वह बार-बार अवमानना नहीं दाखिल कर सकते। हालांकि कोर्ट ने कहा, 'आप बिना प्रभावित हुए बहस करिए।'

कील राजीव धवन ने यह भी कहा, 'एक मंत्री ने मुझसे कहा है कि जगह हमारी है मंदिर हमारा है सुप्रीम कोर्ट हमारा है।' इसपर कोर्ट ने कहा, 'देश में ऐसा नहीं होना चाहिए। हम ऐसे बयानों की निंदा करते हैं।' इसके पहले भी उन्‍होंने राजस्‍थान और तमिलनाडु के दो लोगों द्वारा दी जा रही धमकी की बात कही थी। इसपर चीफ जस्‍टिस रंजन गोगोई की अध्‍यक्षता वाली बेंच ने आरोपियों के खिलाफ नोटिस भी जारी किया था। इससे पहले बुधवार को 21 वें दिन की सुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्ष की तरफ से वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने पक्ष रखा था। राजीव धवन ने कहा कि संविधान पीठ को दो मुख्य बिन्दुओं पर ही विचार करना है।

पहला विवादित स्थल पर मालिकाना हक किसका है और दूसरा क्या गलत परम्परा को जारी रखा जा सकता है। राजीव धवन ने सन 1962 में दिए गए सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले का हवाला देते हुए हाईकोर्ट के फैसले पर सवाल उठाया और कहा कि जो गलती हुई उसे जारी नहीं रखा जा सकता, यही कानून के तहत होना चाहिए।